Followers

"Google-transliterate"

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)

Saturday, February 26, 2011

साजन तुम कब आओगे


साजन तुम कब आओगे
.
तुम्हारे कदमो की हल्की सी आहट से
  ये दिल परेशां हुआ
टूट न जाए ये प्यार के धागे
  मतवारा ये प्यार हुआ
.
तुम कब समझ पाओगे
साजन तुम कब आओगे
.
चाहे सांझ हो या चाहे सवेरा
   ये मन धडका जाए
तुम तो सजन नींदों से सोये
  हाय! मुझे नींद न आये
.
तुमने प्यार छुपाया लेकिन
  मुझ से न छुप पाया
मेरे मन की अन्धकार में
  प्यार का दीया जलाया
.
सावन की बदरी तुम बनकर
कब मन को तर जाओगे
साजन तुम कब आओगे

6 comments:

  1. भावपूर्ण भाव !
    बेहद खूबसूरत !
    शुभकामानायें !

    ReplyDelete
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (28-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना! .....हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  4. बहुत भावपूर्ण सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  5. सुन्दर कविता.. बेहद कोमल रचना और भाव !

    ReplyDelete

among us